स्मार्ट सिटी मिशन के अन्तर्गत लोनिवि शीघ्र कार्य प्रारम्भ कराये – केशव प्रसाद मौर्य

वेब वार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 21जनवरी। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि लखनऊ में स्मार्ट सिटी मिशन के अन्तर्गत लोक निर्माण विभाग द्वारा, जो भी कार्य किये जाने हैं, उन्हे शीघ्र से शीघ्र प्रारम्भ कराया जाय और शहरी विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा स्मार्ट सिटी मिशन के तहत जो मानक और गाइडलाइन है, उसके अनुसार ही नियमानुार कार्य कराये जांये।
श्री मौर्य ने बताया कि प्रथम चरण में लखनऊ नगर में रू0 102 करोड़ 9 लाख 66 हजार की लागत से 12 मार्गों का लोक निर्माण विभाग द्वारा सुधारात्मक कार्य कराया जाना है, जिसमें सिविल कार्यों की लागत रू0 84 करोड़ 1 लाख 97 हजार तथा विद्युत सम्बन्धी कार्यों की लागत रू0 18 करोड़ 7 लाख 69 हजार है। जिन 12 मार्गों का सुधार किया जाना है, उनमें गौतमबुद्ध मार्ग-बांसमण्डी चैराहा से लाटूश रोड (चैनेज 0.600 से 1.650), शिवाजी मार्ग (हुसैनगंज से लाटूश रोड), हुसैनाबाद मार्ग (गौतमबुद्ध पार्क से टीले वाली मस्जिद), एम0जी0 रोड (डालीगंज चैराहा से रेजीडेन्सी तिराहा, एम0जी0 मार्ग रेजीडेन्सी तिराहा से स्वास्थ्य भवन तिराहा, एम0जी0 मार्ग स्वास्थ्य भवन तिराहा से नेशनल पी0जी0 काॅलेज (राणा प्रताप मार्ग), राजा नवाबअली रोड (स्वास्थ्य भवन तिराहा से कैसरबाग बस स्टेशन चैराहा), यूनिवर्सिटी मार्ग (परिवर्तन चैक से हनुमान सेतु), शाहमीना रोड, एम0जी0 मार्ग (हजरतगंज क्रासिंग से डी0एम0 आवास), एम0जी0 मार्ग (विक्टोरिया मेमोरियल से डी0एम0 आवास) व शाहनजफ रोड सम्मिलित हैं।
उपमुख्यमंत्री ने निर्देश दिये हैं कि न केवल वाहनों के आवागमन बल्कि पैदल चलने वाले लोगों के लिये फुटपाथ, हाॅकर्स के लिये वेन्डर्स जोन एवं वाहनों के पार्किंग आदि की भी समुचित व्यवस्था की जाय। इसके अतिरिक्त रोड फर्नीचर्स, रोड साइड अमेनिटिस, अन्डरग्राउन्ड यूटिलिटीज, स्ट्रीट एवं पेडेस्ट्रियन लाइट, ड्रेनेज सिस्टम तथा मार्गों के सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित प्राविधान किये जाने की आवश्यकता पर बल दिया है। लोक निर्माण विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्लानिंग और डिजाइन के समय सतत् विकास पर्यावरण संरक्षण का भी ध्यान रखा गया है। स्मार्ट मार्गों के निर्माण हेतु प्रथम चरण में ए0बी0डी0 क्षेत्र के अन्तर्गत सुधार कार्य हेतु मार्गों का चयन लखनऊ स्मार्ट सिटी बोर्ड द्वारा किया गया है।